top post

भारतीय रेलवे के प्रमुख तथ्य।

1 भारतीय रेल के प्रमुख तथ्य  भारतीय रेलवे 16 अप्रैल 1853 को शुरू हुआ था, जिसकी पहली सेवा बॉम्बे (अब मुंबई) से थाने के लिए थी।

2    भारतीय रेलवे ट्रैक की कुल लंबाई करीब 1,15,000 किलोमीटर है, जो 66,687 किलोमीटर के रूट पर है। भारत में इस समय करीब 7,500 रेलवे स्टेशन हैं।

 3   प्रशासनिक सुविधा एवं रेलों के परिचालन की सुविधा की दृष्टि से भारतीय रेल को 17 क्षेत्र या जोन्स में बाँटा गया है, जिनमें कुल कुल 67 रेलमंडल है।

 4   भारतीय रेल एशिया में चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है तथा एकल सरकारी स्वामित्वाधीन यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है।


 5   यह भारत में सबसे अधिक रोजगार देने वाला सरकारी उपक्रम है जिसके मार्च 2017 को लगभग 13 लाख 30 हजार से भी अधिक कर्मचारी हैं।

  6  भारतीय रेल के 115,000 किमी मार्ग की लंबाई पर 7,172 स्‍टेशन फैले हुए हैं।

 7   भारतीय रेल बहुल गेज प्रणाली है; जिसमें ब्रॉड गेज (1.676 मि मी), मीटर गेज (1.000 मि मी) एवं नेरो गेज (0.762 मि मी. और 610 मि. मी) चौड़ी पटरियां है।

 8   दुनिया का सबसे ऊंचा रेल ब्रिज चेनाब (Chenab) ब्रिज है, जिसका निर्माण जम्मू और कश्मीर में चेनाब नदी पर बनाया गया है।

  9  भारतीय रेल का नेटवर्क, विश्व में चौथे स्थान पर है। विश्व के पांच बड़े रेल नेटवर्क वाले देश है: अमेरिका (250,000 किमी), रूस (86,000 किमी), चीन (68,000 किमी), भारत (66,687 किमी) एवं कनाडा (46,552 किमी) हैं।

 10   मेघालय भारत के एकमात्र राज्य था जहाँ पर रेल सेवा नहीं थी लेकिन नवंबर 2014 में यहाँ भी रेल सेवा शुरु हो गयी है, इसलिए अब भारत के सभी राज्यों में रेल सेवा है।

11    दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे जो पतली गेज की एक बहुत पुरानी रेल व्यवस्था है उसे यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत घोषित किया गया है। यह रेल अभी भी डीजल से चलित इंजनों द्वारा खींची जाती है। आजकल यह न्यू जलपाईगुड़ी से सिलीगुड़ी तक चलती है।

 12   सबसे पुराना अभी भी चलने वाला स्टीम इंजन है फेयरी क्वीन, जिसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल किया गया है। मार्च 2000 में इसे बर्लिन के इंटरनेशनल टूरिस्ट ब्यूरो से हेरिटेज अवार्ड भी मिल चुका है।

13    हबीबगंज बना देश का पहला प्राइवेट स्टेशन: मार्च 2017 में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में बना हबीबगंज रेलवे स्टेशन देश का पहला प्राइवेट रेलवे स्टेशन बन गया है। भोपाल की कंपनी बंसल ग्रुप को इस रेलवे स्टेशन का संचालन करेगी। इस ग्रुप को 8 साल के लिए स्टेशन के निर्माण, रख-रखाव और ऑपरेट करने का जिम्मा दिया गया है। कंपनी को स्टेशन की जमीन के 45 वर्षों की लीज पर मिली है।

1 comment: